रक्षाबंधन 


✍👤रामबाबू सिंह 

की करब हम??
गहना गुड़िया कें हार !
अन्न पानिक भरल भंडार
रुपैया पैसा कें अम्बार
अकासमें ताराक कतार
आ की पूरा संसार !!
देबाक अछि तँ दिय एकटा वचन !
लाजक चुनरी जँ देखि खसैत 
लजखौका सभकें देखि जँ हँसैत 
तँ सिनेहक चुनरी माथ पर रखैत
बुझिह अपन बहिन सन लाज झँपैत !!

हमर रक्षाक अछि अहाँक धर्म !
मुदा बुझु आरो कें बहिनक मर्म !!
कटि जाएब नहि किन्नहु छोड़ब !
जँ उठेS फेर हाथ दुःशासन के
चिर हरणक कुप्रयास सँ पहिने
अधर्मी कलुषितक हाथ तोड़ब !!
धर्मक डारहि पकरि कS भैया
पुरा करू सपुतक कर्म !
सह सह ससरैत सपोला सभक
फण कुचि कS मेटाउ भरम !!

बहिन तँ बहिनें होईए
ओकरा लेल नहि कोनो आरि !
जेहने हम अहाँके लाली
तेहने ओ छथिन हुनक दुलारि !!
भेद-भाव किएक अपनहि सँग !
किएक नहि बुझैत छी अपनहि अँग !!
एक दोसरक मान मर्यादा
इयाद राखब जखनहि हम !
रक्षासूत्रक रक्ष पताखा 
फहरायत घर घर हर दम !!
#जयमिथिला_जयमैथिली

✍👤रामबाबू सिंह मधेपुर
कलुआही 07.08.17

0 टिप्पणियाँ Blogger 0 Facebook

 
Apanmithilaa.com © 2016.All Rights Reserved.

Founder: Ashok Kumar Sahani

Top