""लिय ' शपथ""

✍👤विनय कुमार
##################
लिय ' शपथ, लिय ' शपथ,
अपन धरती आ अपन भाषाक,
करू उत्थान, करू उत्थान।
अकारथ जीवन केँ करू सनाथ, 
जीवन मुल्यक आब राखू मान। 
किछु अपन माँटि-पानिक करू ध्यान।
छी अपन धरती सँ सब भागि रहल,
मिथिलाक धरती छथि कानि रहल।
छथि जननी जन्मभूमिपुकारि रहल।
जे माँटि-पानि पँहुचेलक शिखर पर,
बिसरि बैसल छी आब ओकरे ।
जे भाषा विश्व भरि में सबस मिठगर,
जे देलक विद्यापति सन कविबर। 
ओ भाषा बनल अछि आई  टुगर ।
अपन निज भाषाक ध्यान धरू। 
मायक भाषाक नै अपमान करू।
मिथिला आ मैथिलीक अधोगतिक,
कारणआ जिम्मेदार छी हम सब।
जगाव अपन अन्तरआत्मा  केँ। 
लिय' शपथ अपना आप में।
पँहुचाव मिथिला आ मैथिली के शिखर पर।
मैथिल होमक करू अभिमान।
लिय' शपथ, लिय ' शपथ,
अपन धरती आ अपन भाषाक,
करू उत्थान, करू उत्थान। 

कबि- विनय कुमार जी










✍👤विनय कुमर,
परिहारपुर,मधुबनी

0 टिप्पणियाँ Blogger 0 Facebook

 
Apanmithilaa.com © 2016.All Rights Reserved.

Founder: Ashok Kumar Sahani

Top