राष्ट्रवादकेँ नाममें संशोधनमें औरी देखाबैवाला के जनता चिन्हने अछि : प्रदीप गिरी


अपन मिथिला/ भादौ ५– कांग्रेस सांसद प्रदीप गिरील संविधान सशोधनके अर्थ तीन करोड नेपाली सँगए सँगए बाचैके आ  सँगए रहैके लेल  भेल कहने अछि।
संसद बैठकमें  सोमदिन बोलैत सांसद गिरी संसद सरकार बनाबै के काममात्र नै भके मुलुक आ जनताके पक्षमें काम करै के काम  सेहो अछि कहैत । एमालेऊपर इसारा करैत उ कहकल संविधान संशोधनमें राष्ट्र आ राष्ट्रबादके  बात नै आबै छै आ सत्ता संघर्षके गप्प आरहल में आपत्ति जनोँने छेल । ‘नेपाल सभके अछि, राष्ट्रबाद सभ के अछि  । वीपी सेहो २००३ में राष्ट्रबादके बहुत गप्प केने छेल तैयो पछा बदल परल छेल  । राष्ट्रके लेल भाषा,संस्कृति भुगोल चाही’ सांसद गिरी पाकिस्तान, बंगलादेशके उदाहरण दैत राष्ट्रबादम नाममें संशोधनमें औरी देखाबै वला के जनता चिनहत जरूर ।

 उ डर त्रास देखाके राष्ट्र विनास हेत कहैत नेपालमें भारतीय बाधके समस्या भेल अछि तब प्रधानमन्त्री अपन भ्रमणके टाइम कुटनीतिक हिसावसे गप्प करत डराबैके कोनो बात नै अछि । विपत्तिके देखाके ककरो कुटनीति करै के खोजय उ अवसरवाद हेत सांसद गिरीके कथन छेल ।

0 टिप्पणियाँ Blogger 0 Facebook

 
Apanmithilaa.com © 2016.All Rights Reserved.

Founder: Ashok Kumar Sahani

Top